यह 6 बातें आपकी जान बचा सकती है

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) 2018 की एक रिपोर्ट के अनुसार भारत में विश्व की तुलना में मात्र 1 प्रतिशत वाहन है, परन्तु यहाँ 6 प्रतिशत सड़क दुर्घटनायें होती है। दक्षिण पूर्वी एशिया में सड़क हादसों से होने वाली मौतों में भारत का हिस्सा लगभग 73 प्रतिशत है, जो बहुत ही चिंतनीय और गंभीर विषय है। भारत एक तेज़ी से विकसित हो रही अर्थव्यवस्था है और यहां साक्षरता की दर में पिछले एक दशक में बड़ी वृद्धि भी दर्ज की गयी है, फिर भी इतनी बड़ी संख्या में सड़क दुर्घटनाओं का होना बहुत चिंतनीय है। हमारे देश में वाहन चालक का लाइसेंस किस प्रकार आवंटित किया जाता है यह तो सब जानते है, इस लेख में हम बहुत संक्षेप (Precised) में वाहन चलाने से सम्बंधित महत्वपूर्ण दिशा निर्देशों के विषय में बात करेंगे जो आपको सड़क दुर्घटनाओं से बचा सकते है। एक बार अवश्य सोचें क्या आप वाहन चलाते समय इन बातों का

बायें चले

भारत में कार राइट हैंड ड्राइव होती है, इसलिए वाहन को हमेशा बायीं लेन में चलाना चाहिए , जिस से की आप ओवरटेक कर रहे वाहन को स्पष्ट रूप से देख सकें और निर्धारित दूरी बना सकें।

गाडी किस प्रकार मोड़े

बायां मोड़ लेना है तो, सड़क की बायीं ओर बने रहे और दिशासूचक (Indicator) का संकेत प्रारम्भ कर वाहन को मोड़े। अगर आप दाहिनी ओर मुड़ना चाहते है तो, पहले वाहन को धीरे धीरे सड़क के बीच में लेकर आयें और दिशासूचक के या हाथ का इशारा दे कर वाहन को मोड़े।

ओवरटेक

गलत तरफ से ओवरटेक करना सबसे सामन्य गलती है जो की सबसे अधिक की जाती है और सबसे अधिक मौतें सड़क दुर्घटना में इस वजह से ही होती है। भारत में बायीं तरफ से ओवरटेक करना दंडनीय अपराध है, क्यूंकि यहाँ वाहन राइट हैंड ड्राइव होते है।

यातायात चिह्न

वाहन चालक को यातायात चिन्हों की समझ होना अत्यंत आवश्यक है। यह वाहन चालक को रास्ते की विषय में सतर्क करते है, अगर आपको इन चिन्हों की ठीक समझ ना हो तो ह सकता है आप किसी दुर्घटना के शिकार हो जायें। कम से कम वाहन चालक बहुत से सामन्य चिन्ह जैसे की फिसलन भरी सड़क, ओवरटेक करना मना है, खड़ी चढ़ाई, तीखा उतार, भूस्खलन आदि की पहचान आवश्यक है।

गति सीमा

गति सीमा का ध्यान रखना अत्यंत आवश्यक है। विभिन्न शासकीय संस्थायें गहरे अनुसन्धान से आधार पर यह तय करती है कि, किस सड़क पर कितनी गति से वाहन चलना सुरक्षित होगा। आपने अक्सर देखा होगा कि, बहुत सी ऐसी सड़कें होती है जहां बहुत कम यातायात होने के बावजूद भी गति सीमा बहुत काम होती है। इसका सबसे अच्छा उदाहरण घाट का इलाका है।

डिपर का प्रयोग

रात्रि के समय वाहन चालन में डिपर का प्रयोग अत्यंत आवश्यक है। हाई बीम पर सतत गाड़ी चलाने से सामने से आ रहे वाहन को सड़क देखने में कठिनाई का सामना करना पड़ता, जिस कारणवश दुर्घटना होने की संभावना बढ़ जाती है। अतः रात्रि में डिपर का प्रयोग ओवरटेक करने और पास देते समय करना आवश्यक है।

इस लेख में और भी जानकारियां दी जा सकती थी, परन्तु यहाँ सिर्फ वही बातों को लिखा गया है जो आमतौर पर नज़रअंदाज की जाती है। आशा है यह जानकारी आपके लिए उपयोगी सिद्ध होगी और वाहन चलाते समय आप इन बातों का अवश्य ध्यान रखेंगे।

यह 10 भविष्य की कारें आपको हैरान कर देंगी

सन 1886 में कार्ल बेंज़ (Karl Benz) द्वारा निर्मित वगैन और 1906 में निर्मित फोर्ड मॉडल -T (Ford Model T) से सन 2020 में रोल्स रॉयस स्वीपटेल (Rolls Royce Sweptail) तक कार जगत में अनगिनत नवरचनाएँ (Innovations) देखें है। बात चाहे आरामदायक सफर की हो या सुरक्षा की या वाहन संचालन के अनुभव की या आकर्षक डिज़ाइन की इस उद्योग ने बहुत तेज़ी से तरक्की। कार खरीदने से पहले दोस्तों और रिश्तेदारों के साथ विभिन्न कार निर्माताओं व मॉडल्स के बारे में चर्चा करना, कारों में प्रदान की जाने वाली नवीन तकनीक या लॉंच होने वाले अत्याधुनिक विकल्पों के बारें में उत्सुकता प्रत्येक कार उपभोक्ता या कार उत्साही को होती ही है।

मज़े की बात यह है कि, कार निर्माता कम्पनियाँ भी ग्राहकों की इस क्षुधा को शांत नहीं होने देती। आज के इस लेख में हम बात करेंगे ऐसी कारों के बारें में बात करेंगे जो आप सभी को उत्साहित कर देंगी और यह सोचने पर मज़बूर करेंगी की क्या सच में ऐसा होना मुमकिन है या कहीं इस लेख में लिखी गयी बातें काल्पनिक तो नहीं ? यकीन मानिये प्रौद्योगिकी (Technology) हमारी सोच से भी तेज़ रफ़्तार से उन्नत हो रही है।

इस लेख में भविष्य की कार कैसी होगी जानेंगे, इस सूची में क्रम का कोई अर्थ नहीं है और ना की क्रम किसी कार की तुलना करने के लिए है। हैरान होने के लिए तैयार हो जाइये हमारी सूची में पहला नाम है : –

यह शेवरलेट के बेहतरीन और लोकप्रिय मॉडल C – 10 से प्रेरित डिज़ाइन E 10 है मतलब एलेक्ट्रोवॉल्ट अर्थात E 10 शून्य कार्बन उत्सर्जन वाला ट्रक है, पर पहले बात करेंगे इसके पूर्वज C 10 की, उस दौर में यह 135 अश्वशक्ति (Horsepower) की जबरदस्त ऊर्जा उत्पन्न करने वाला 235 वर्ग सेंटीमीटर की 6 सिलिंडर की असेंबली से लैस था। भारत में आज भी ट्रेक्टर इस से कम अश्वशक्ति के उपयोग में लाये जाते है।

अगर हम बात करें 1962 मॉडल E 10 पिकअप ट्रक की तो यह अपने पूर्वज से अश्वशक्ति और आराम के मामले में कई कदम आगे है। इसका V8 इंजन 450 हॉर्सपावर की ऊर्जा उत्पन्न करता है। इसे यह ऊर्जा 400 वोल्ट की दो बैटरियों से मिलती है, यह महज़ 5 सेकंड में 0 – 60 मील की रफ़्तार पकड़ लेता है और यह 2 व्हील ड्राइव है। यह कांसेप्ट ट्रक पहली बार लॉस वेगास में नवंबर 2019 में SEMA में प्रदर्शित किया गया था।

कार निर्माण उद्योग में यह कार एक नये अध्याय की शुरुवात है। लाइटईयर वन अपने आप में विशेष है, यह सौर ऊर्जा से चलती है और तो और यह अपने आप चार्ज हो सकती है। शायद आप यकीन ना परन्तु यह एक बार पूर्णतः चार्ज होने पर 725 किमी की दूरी तय कर सकती है। इटली में डिज़ाइन की गयी इस कार की 1 लाख से ज़्यादा बुकिंग हो गयी है और कंपनी सन 2021 में व्यवसायिक रूप से इस कार का उत्पादन प्रारम्भ कर देगी। इस कार का मूल्य लगभग 98 लाख रुपये के आसपास रहेगा।

बेंटले द्वारा ग्राहकों को विशेष यात्रा अनुभव देने के लिए इस कार को डिज़ाइन किया गया है। इस कार की कुल लम्बाई 5.8 मीटर है और इसके ऊपर की ओर खुलने वाले दरवाज़ों की लम्बाई 2 मीटर दी गयी है। इस कार में एक विशेष प्रकार का हवा को साफ़ करने वाला यन्त्र लगाया है, जो आपके कार चलाने के अनुभव को सुकून प्रदान करता है। इस कार में बायोमेट्रिक अडाप्टेबल (Bio metric Adaptable) बैठक व्यवस्था है, जो सफर करने वाले के अनुसार स्वचालित रूप से एडजस्ट हो जाती है। यह अपने आप भी चल सकती है और कंपनी 2035 में इस कार को ग्राहकों को उपलब्ध करने की तैयारी में है।

भारत में कम ही लोग यह जानते है कि, हुंडई भी शुन्य कार्बन उत्सर्जन वाली कार के लिए सतत प्रयासरत है। EV 45 कंपनी द्वारा 1974 में लांच किये गए पोनी कूप को श्रद्धांजलि है। 45 डिग्री के तीखे कोण इस कार को बेहद आकर्षक बना देते है। वाहन चालक को अतिरिक्त सुरक्षा देने के उद्देश्य से इस कार में खम्बे नहीं (Pillar less ) है, साथ ही अत्याधुनिक हेडलैंप ऐसा प्रतीत होता मानों यह 70 के दशक का एनालॉग लाइट हो। आपके यात्रा अनुभव को और बेहतर बनाने के लिए इस कार की आगे वाली यात्री सीट पीछे की ओर घूम जाती है और इसका लकड़ी, फैब्रिक और चमड़े से बना केबिन बहुत ही आकर्षक है।

टेस्ला साइबर ट्रक अपने आप में अनोखा है, इस पर आपकी निगाहें ठहर सी जाती है। 16 इंच के ग्राउंड क्लीयरेंस वाला यह ट्रक यात्रियों को अधिकतम सुरक्षा प्रदान करने के लिए डिज़ाइन किया गया है। यह भी सौर ऊर्जा से चार्ज हो सकता है और अंदर बैठे यात्रियों को 9 MM की गोलियों से भी बचा सकता है। इस स्पोर्ट्स कार में सामान रखने के लिए 100 वर्ग फ़ीट की जगह है और यह अपने साथ 14000 पौंड से अधिक का वजन आसानी से ढो सकता है। यह ट्रक मात्र 2.5 सेकण्ड में 0 – 60 मील प्रति घंटा की रफ़्तार पकड़ लेता है। इस गज़ब की कार की प्रारंभिक कीमत 29 लाख के आसपास है और यह मॉडल X, मॉडल 3, मॉडल S और मॉडल Y में उपलब्ध है।

यह कार देखने में किसी फ़िल्मी सितारे से काम नहीं है। गज़ब का डिज़ाइन कार की सुंदरता में चार चाँद लगा देता है। इस कॉम्पैक्ट स्पोर्ट्स यूटिलिटी व्हीकल (SUV) की हेडलाइट्स अपने आप में विलक्षण है और इसका इंटीरियर आपका मन मोह लेगा। यह कार पहली बार जिनेवा ऑटो शो 2019 में पहली बार देखी गयी थी। आप इस कंपनी वेबसाइट पर जा कर इस कार को अपने मन के मुताबिक भी बनवा सकते है, शायद यह सुविधा अभी इस मॉडल पर उपलब्ध नहीं है।

ऑडी ऑफ़ रोड़ बग्गी (Audi Off Road Buggy ) चार लोगों की क्षमता वाली बेहद शक्तिशाली गाड़ी है। यह इलेक्ट्रिक कार अपने आप में विशेष है और इस गाड़ी में 5 रॉटरलेस (Rotor-less) ड्रोन (Drone) दिए गए है, जो चालक को दूर तक रास्ता देखने में मदद करते है। इस कार मै हेलीकॉप्टर (Helicopter) की तरह की सीटें है जो चालक को बेहतर दृष्टि प्रदान करती है। यह वाहन लेवल – 4 तक की कठिनाइयों को आसानी से पार कर सकता है और इसका इंजन 450 हार्सपावर की ऊर्जा उत्पन्न करता है। पूर्णतः चार्ज हो जाने पर यह लगभग 500 किमी का सफर तय कर सकती है, यह वाहन सेल्फ प्रोपेल्ड व्हील से लैस है जिसका अर्थ है इसके टायर अलग – अलग गति कर सकते जो कठिन रास्तों में वाहन सञ्चालन को आसान बनता है।

मर्सडीज़ बेंज़ EQS दिखने में भविष्य की कार लगती है। इसका डिज़ाइन बेहद खूबसूरत है। इस वाहन में 24 इंच के स्पोक (Spoke) व्हील्स और 940 एलईडी इसे बेहद आकर्षक बना देते है। यह LED अलग अलग रूप से संचालित हो सकते है। इस कार बड़ी विशेषता यह है कि, यह रिचार्ज होने पर 700 किमी का फसा तय कर सकती है और इसकी 80 प्रतिशत बैटरी मात्र 20 मिनट में चार्ज हो जाती है। कार्बन उत्सर्जन को न्यूनतम करने के उद्देश्य से कंपनी नवकरणीय (Renewable) संसाधनों से इस कार में उपयोग की जा रही बैटरी का निर्माण कर रही है। इस कार का इंजन लगभग 469 हॉर्सपॉवर की ऊर्जा उत्पन्न करता है और यह कार 0 – 100 किमी पार्टी घंटा की रफ़्तार मात्र 4.5 सेकंड में पकड़ लेती है।

इस मन मोह लेने वाली स्पोर्ट्स कार की जितनी तारीफ की जाये उतनी कम है या देखने में बेहद आकर्षक है। इस कार का डिज़ाइन क्लासिक और i 8 मॉडल्स का मिश्रण है। इस कार के ऊपर की और खुलने वाले दरवाज़े बहुत ही सुन्दर लगते है। BMW के मुताबिक इस कार के बुनियादी विचार को विकसित करने में कंपनी को लगभग 18 महीने का समय लग गया।

डीइस एक्स ई – टेंस (DS X E-TENSE )

पारम्परिक कार से बिलकुल अलग डीएस एक्स ई – टेंस भविष्य से आयी हुई कोई कार लगती है। इसका विषम (asymmetric) डिज़ाइन आपको कार के बारें में चर्चा करने पर मजबूर कर देगा, शायद यह बैट मोबाइल (Bat-mobile) से प्रेरित है। 2035 में लांच के लक्ष्य को सामने रख इस कार के प्रतिमान (Prototype) काम अभी चल रहा है। इस कार का डिज़ाइन बेहद अलग होने के साथ साथ इस चार लोगो की क्षमता वाली कार के दरवाज़े खुलने पर किसी तेज़ रफ़्तार पक्षी के परों के सामान लगते है। इसका केबिन भी बेहद अलग है और ऐसा लगता है जैसे की कोई अंतरिक्ष विमान हो। यह देखना होगा इस डीएस ऑटोमोबाइल आखिर ग्राहकों के लिए कैसा अनुभव तैयार करने जा रहा है वैसे यह उत्सुकता जल्द समाप्त नहीं होने वाली।

सेकण्ड हैंड कार खरीदना हुआ आसान, बैंक दे रहा है विशेष ब्याजदर

भारत में कोरोना रोग से संक्रमित लोगो की फेहरिस्त लगातार लम्बी होती जा रही है और सशर्त अनलॉक 1.0 के प्रावधानों को देखें तो बहुत से उद्योग, रोज़गारों के साथ साथ आजीविका उपार्जन के बहुत से स्त्रोत फिर से शुरू होने जा रहें है। ऐसे में सार्वजनिक परिवहन को पूर्णतः सञ्चालन की इजाजत ना मिलना यह सपष्ट करता है कि, बहुत से लोग अपने दफ्तर जाने के लिए निजी परिवहन पर आश्रित रहेंगे।

ऑटोमोबाइल जगत इस बात को लेकर बहुत आशावादी है, कार निर्माताओं द्वारा प्रारंभ की गयी लोकलुभावन योजनाएं इस बात का प्रमाण है परन्तु सेकण्ड हैंड कार (Used Car) उद्योग भी इस महामारी के संकट में चरमरा गयी अपनी नींव को दुरुस्त करने को लेकर उत्साहित दिख रहा है। विशेषज्ञों और सेकण्ड हैंड कार उद्योग से जुड़े हुए लोगो का मानना है कि कोरोना संकट से जन्मे लॉकडाउन (Lock-down) के कारण मध्यम वर्ग (Middle Class) और उच्च मध्यम वर्ग (Upper Middle Class ) की खरीदारी क्षमता (Purchasing Power) में कमी आयी है जिसका फायदा इस उद्योग को मिलना तय माना जा रहा है।

इस स्तिथि का लाभ उठाने में विभिन्न बैंकिंग क्षेत्र भी पीछे नहीं रहना चाहते और वे नवीन कार निर्माताओं और सेकण्ड हैंड कार विक्रेताओं के लिए हितकारी योजनाओं के साथ तैयार है। आज के इस लेख में हम देखेंगे की वह कौन-कौन से बैंकिंग संसथान है जो आपको सस्ता लोन उपलब्ध करा सकते है , पहले हम देखेंगे की स्थिर ब्याज़ दर पर कौन सबसे सस्ता कर्ज़ (Loan) उपलब्ध करवा रहा है :-

क्रमांक बैंक का नामलोन का प्रतिशत ब्याजदर अवधिकिश्त
1 Kotak Bank90 %17 %5 वर्ष ₹ 2485
2
HDFC Bank
80 %13 %5 वर्ष₹ 2275
3 Andhra Bank 60 %11.85 % 5 वर्ष₹ 2217
4Federal Bank75 %
(मूल्य ह्रास पर)
11.15 %5 वर्ष₹ 2182
5ICICI Bank 80 %10.50 %5 वर्ष
(7 )
₹ 2149

किश्त प्रति लाख के आधार पर , लोन का प्रतिशत बाज़ार मूल्य के आधार पर

यहाँ हमने देखा की स्थिर ब्याज़ दर पर प्रति लाख लोन राशि पर कितनी किश्त का भुगतान करना होगा। अब हम बात करेंगे कटमीति ब्याज़ उपलब्ध कराने वाली बैंकिंग संस्थाओं के बारे में :-

क्रमांक बैंक का नामलोन का प्रतिशत ब्याजदर अवधिकिश्त
1 State Bank of India85 %
(ऑन रोड)
12.60 %7 वर्ष ₹ 1798
2 Union Bank70 %11.60 %5 वर्ष₹ 2204
3 Central Bank 75 %9.95 % 5 वर्ष₹ 2122
4Bank Of Maharashtra50 %
9.40 %5 वर्ष₹ 2095
5Bank of India70 %8.90 %3 वर्ष₹ 3175

किश्त प्रति लाख के आधार पर , लोन का प्रतिशत बाज़ार मूल्य के आधार पर

बैंक समय समय पर अपनी ब्याजदर में संशोधन करता रहता है, आवेदनकर्ताओं से निवेदन है कि, आवेदन के पूर्व नज़दीकी शाखा से संपर्क अवश्य करें।