सेकण्ड हैंड कार खरीदना हुआ आसान, बैंक दे रहा है विशेष ब्याजदर

भारत में कोरोना रोग से संक्रमित लोगो की फेहरिस्त लगातार लम्बी होती जा रही है और सशर्त अनलॉक 1.0 के प्रावधानों को देखें तो बहुत से उद्योग, रोज़गारों के साथ साथ आजीविका उपार्जन के बहुत से स्त्रोत फिर से शुरू होने जा रहें है। ऐसे में सार्वजनिक परिवहन को पूर्णतः सञ्चालन की इजाजत ना मिलना यह सपष्ट करता है कि, बहुत से लोग अपने दफ्तर जाने के लिए निजी परिवहन पर आश्रित रहेंगे।

ऑटोमोबाइल जगत इस बात को लेकर बहुत आशावादी है, कार निर्माताओं द्वारा प्रारंभ की गयी लोकलुभावन योजनाएं इस बात का प्रमाण है परन्तु सेकण्ड हैंड कार (Used Car) उद्योग भी इस महामारी के संकट में चरमरा गयी अपनी नींव को दुरुस्त करने को लेकर उत्साहित दिख रहा है। विशेषज्ञों और सेकण्ड हैंड कार उद्योग से जुड़े हुए लोगो का मानना है कि कोरोना संकट से जन्मे लॉकडाउन (Lock-down) के कारण मध्यम वर्ग (Middle Class) और उच्च मध्यम वर्ग (Upper Middle Class ) की खरीदारी क्षमता (Purchasing Power) में कमी आयी है जिसका फायदा इस उद्योग को मिलना तय माना जा रहा है।

इस स्तिथि का लाभ उठाने में विभिन्न बैंकिंग क्षेत्र भी पीछे नहीं रहना चाहते और वे नवीन कार निर्माताओं और सेकण्ड हैंड कार विक्रेताओं के लिए हितकारी योजनाओं के साथ तैयार है। आज के इस लेख में हम देखेंगे की वह कौन-कौन से बैंकिंग संसथान है जो आपको सस्ता लोन उपलब्ध करा सकते है , पहले हम देखेंगे की स्थिर ब्याज़ दर पर कौन सबसे सस्ता कर्ज़ (Loan) उपलब्ध करवा रहा है :-

क्रमांक बैंक का नामलोन का प्रतिशत ब्याजदर अवधिकिश्त
1 Kotak Bank90 %17 %5 वर्ष ₹ 2485
2
HDFC Bank
80 %13 %5 वर्ष₹ 2275
3 Andhra Bank 60 %11.85 % 5 वर्ष₹ 2217
4Federal Bank75 %
(मूल्य ह्रास पर)
11.15 %5 वर्ष₹ 2182
5ICICI Bank 80 %10.50 %5 वर्ष
(7 )
₹ 2149

किश्त प्रति लाख के आधार पर , लोन का प्रतिशत बाज़ार मूल्य के आधार पर

यहाँ हमने देखा की स्थिर ब्याज़ दर पर प्रति लाख लोन राशि पर कितनी किश्त का भुगतान करना होगा। अब हम बात करेंगे कटमीति ब्याज़ उपलब्ध कराने वाली बैंकिंग संस्थाओं के बारे में :-

क्रमांक बैंक का नामलोन का प्रतिशत ब्याजदर अवधिकिश्त
1 State Bank of India85 %
(ऑन रोड)
12.60 %7 वर्ष ₹ 1798
2 Union Bank70 %11.60 %5 वर्ष₹ 2204
3 Central Bank 75 %9.95 % 5 वर्ष₹ 2122
4Bank Of Maharashtra50 %
9.40 %5 वर्ष₹ 2095
5Bank of India70 %8.90 %3 वर्ष₹ 3175

किश्त प्रति लाख के आधार पर , लोन का प्रतिशत बाज़ार मूल्य के आधार पर

बैंक समय समय पर अपनी ब्याजदर में संशोधन करता रहता है, आवेदनकर्ताओं से निवेदन है कि, आवेदन के पूर्व नज़दीकी शाखा से संपर्क अवश्य करें।

1 रु / प्रतिमाह की किश्त पर कार

एक रुपये प्रतिमाह की किश्त (EMI) पर कार ? यकीन करना थोड़ा मुश्किल लगता है, पर यह सच है। कोरोना (COVID-19) ने वाहन उद्योग (Automobile Industry) जगत की कमर तोड़ दी है। एक ओर लॉकडाउन के चलते कम्पनियाँ अपने शोरूम नहीं खोल रही है और दूसरा जहां 33 प्रतिशत क्षमता के साथ शोरूम खुल भी गए है, वहां ग्राहक नदारद है। ऐसे में ऑटोमोबाइल क्षेत्र में कार्यरत कम्पनियाँ ग्राहकों को लुभाने के लिए नित्य नयी योजनायें प्रारम्भ कर रही है, इन योजनों में BS-6 मॉडल पर विभिन्न प्रकार की छूट के साथ आकर्षक फाइनेंस विकल्प भी उपलब्ध है।

हुंडई की आकर्षक लोन योजनाओं के बारे में तो आप सब जानते ही है। इस शृंखला में फ़्रांसिसी कार निर्माता रेनॉल्ट ने भी वाहन खरीदने के 3 माह पश्चात ई.एम.आई. भुगतान का विकल्प उपलब्ध है साथ ही साथ रेनॉल्ट फाइनेंस “जॉब लॉस कवर” का भी विकल्प उपलब्ध करवा रहा है, जिसकी प्रीमियम राशि 650 रुपये से 1600 रुपये की बीच होगी। ग्राहकों को लुभाने के लिए रेनॉल्ट क्विड (KWID), ट्रिबर (Triber) और डस्टर (Duster) पर रुपये 30,000 से लेकर रुपये 60,000 का सीधा मुनाफा विभिन्न योजनाओं के माध्यम से ग्राहकों को उपलब्ध करवा रहा है। घटती बिक्री से जूझ रहा टाटा मोटर्स मोटर्स भी हरियर (Harrier), टिआगो (Tiago) और टगोर (Tigor) पर रुपये 25,000 से लेकर रुपये 40,000 तक की आकर्षक बचत योजना उपलब्ध करवा रहा है।

1 रु / प्रतिमाह की किश्त

यह आकर्षक योजना जर्मन कार निर्माता वॉक्सवैगन द्वारा प्रारम्भ की गयी है। कोरोना संकट में नौकरीपेशा वर्ग की ज़रूरतों को ध्यान में रखते हुए वॉक्सवैगन ने हॉलिडे ईएमआई योजना (EMI Holiday Option) प्रारम्भ की है। इस योजना के अंतर्गत ईएमआई पर वाहन खरीदने वाले ग्राहकों को प्रथम वर्ष में मात्र 1 रुपये / प्रतिमाह का भुगतान करना होगा। द्वितीय वर्ष से वाहन मूल्य की शेष राशि का भुगतान 24 बराबर किश्तों में करना होगा। वॉक्सवैगन की आधिकारिक वेबसाइट पर ग्राहकों के अन्य 5 फाइनेंस विकल्प उपलब्ध है।

अधिक जानकारी हेतु : https://www.volkswagen.co.in/en/offers-and-products/volkswagen-financial-services.html

मंदी के दौर में कार खरीदना हुआ आसान

कोविड-19 (Covid-19) के रोकथाम से सम्बंधित निर्देशिकाओं के अनुसार सार्वजनिक परिवहन की मांग में लघु अवधि तक कमी देखी जाएगी , ऐसे में निजी वाहनों की बिक्री बढ़ना तय प्रतीत हो रहा है। परन्तु, कोरोना संकट ने ऑटोमोबाइल क्षेत्र की समस्यायें बढ़ा दी है और भारत में कार्यरत सभी ऑटोमोबाइल कंपनियां अपने-अपने स्तर पर बिक्री में आयी बहुत बड़ी गिरावट से जूझने का प्रयास कर रही है। इस तारतम्य में हुंडई (Hyundai Motors) ने ग्राहकों के लिए 5 बहुत आकर्षक योजनायें प्रारम्भ की है। अगर आप हुंडई मोटर्स की कोई कार खरीदना चाहते है , तो मंदी के इस दौर में भी आप इन आकर्षक योजनाओं को ना नहीं कह पाएंगे। इन योजनाओं का निर्धारण मंदी में ग्राहकों की आवश्यकता को ध्यान में रख कर किया गया है।

हुंडई मोटर्स की 5 योजनायें इस प्रकार है :-

1 .न्यूनतम डाउनपेमेंट योजना (Minimum Down payment Scheme ) :- इस योजना के अंतर्गत हुंडई के चुनिंदा मॉडल्स पर ऑन रोड़ 100 प्रतिशत तक फाइनेंस की सुविधा उपलब्ध है।

2. अधिकतम अवधि की योजना (Longest Duration Scheme) :- वह ग्राहक जो न्यूनतम किश्त का भुगतान करना चाहते है, उनके किये हुंडई के कुछ मॉडल्स पर 8 साल तक की अवधि के किये फाइनेंस की सुविधा उपलब्ध है।

3. स्टेप-अप योजना (Step Up Scheme) :- इस आकर्षक योजना के अंतर्गत ग्राहकों को पहले साल प्रति 1 लाख के लोन पर 1234 रुपये ई.एम.आई. (EMI) के रूप में जमा करने होंगे, एक वर्ष की अवधि पश्चात् ग्राहकों को सामान्य ई.एम.आई. का भुगतान करना होगा। योजना के अंतर्गत लोन की अवधि अधिकतम 7 वर्षों की होगी।

4. गुब्बारा योजना (Balloon Scheme) :- इस योजना के अंतर्गत लोन की अवधि 5 वर्ष की होगी। ग्राहक को लोन राशि का 75 प्रतिशत 59 किश्तों (EMI) में ब्याज़ सहित जमा करना होगा और अंतिम किश्त में बची हुई 25 प्रतिशत राशि जमा करनी होगी। यह योजना सभी मॉडल्स पर उपलब्ध है।

5. 3 माह न्यूनतम किश्त योजना (3 Month Minimum EMI Scheme) :- यह योजना बहुत आकर्षक तो प्रतीत नहीं होती पर, ग्राहक प्रारंभ के 3 माह न्यूनतम किश्त जमा करने का विकल्प चुन सकते है। इसके बाद शेष लोन राशि का भुगतान 3 वर्ष, 4 वर्ष और 5 वर्ष की बराबर किश्तों में करना होगा। यह योजना हुंडई के समस्त मॉडल्स पर उपलब्ध है।

Car अड्डा के ग्राहकों के अनुरोध पर यह लेख जानकारी प्रदान करने के लिए यह लेख पुनः हिंदी में लिखा गया है

*फाइनेंस (Finance) योजनाएं कर्जप्रदाता संस्थाओं के विवेक पर आधारित है।

https://www.hyundai.com/in/en/hyundai-story/media-center/india-news.html#itemView