यह 10 भविष्य की कारें आपको हैरान कर देंगी

सन 1886 में कार्ल बेंज़ (Karl Benz) द्वारा निर्मित वगैन और 1906 में निर्मित फोर्ड मॉडल -T (Ford Model T) से सन 2020 में रोल्स रॉयस स्वीपटेल (Rolls Royce Sweptail) तक कार जगत में अनगिनत नवरचनाएँ (Innovations) देखें है। बात चाहे आरामदायक सफर की हो या सुरक्षा की या वाहन संचालन के अनुभव की या आकर्षक डिज़ाइन की इस उद्योग ने बहुत तेज़ी से तरक्की। कार खरीदने से पहले दोस्तों और रिश्तेदारों के साथ विभिन्न कार निर्माताओं व मॉडल्स के बारे में चर्चा करना, कारों में प्रदान की जाने वाली नवीन तकनीक या लॉंच होने वाले अत्याधुनिक विकल्पों के बारें में उत्सुकता प्रत्येक कार उपभोक्ता या कार उत्साही को होती ही है।

मज़े की बात यह है कि, कार निर्माता कम्पनियाँ भी ग्राहकों की इस क्षुधा को शांत नहीं होने देती। आज के इस लेख में हम बात करेंगे ऐसी कारों के बारें में बात करेंगे जो आप सभी को उत्साहित कर देंगी और यह सोचने पर मज़बूर करेंगी की क्या सच में ऐसा होना मुमकिन है या कहीं इस लेख में लिखी गयी बातें काल्पनिक तो नहीं ? यकीन मानिये प्रौद्योगिकी (Technology) हमारी सोच से भी तेज़ रफ़्तार से उन्नत हो रही है।

इस लेख में भविष्य की कार कैसी होगी जानेंगे, इस सूची में क्रम का कोई अर्थ नहीं है और ना की क्रम किसी कार की तुलना करने के लिए है। हैरान होने के लिए तैयार हो जाइये हमारी सूची में पहला नाम है : –

यह शेवरलेट के बेहतरीन और लोकप्रिय मॉडल C – 10 से प्रेरित डिज़ाइन E 10 है मतलब एलेक्ट्रोवॉल्ट अर्थात E 10 शून्य कार्बन उत्सर्जन वाला ट्रक है, पर पहले बात करेंगे इसके पूर्वज C 10 की, उस दौर में यह 135 अश्वशक्ति (Horsepower) की जबरदस्त ऊर्जा उत्पन्न करने वाला 235 वर्ग सेंटीमीटर की 6 सिलिंडर की असेंबली से लैस था। भारत में आज भी ट्रेक्टर इस से कम अश्वशक्ति के उपयोग में लाये जाते है।

अगर हम बात करें 1962 मॉडल E 10 पिकअप ट्रक की तो यह अपने पूर्वज से अश्वशक्ति और आराम के मामले में कई कदम आगे है। इसका V8 इंजन 450 हॉर्सपावर की ऊर्जा उत्पन्न करता है। इसे यह ऊर्जा 400 वोल्ट की दो बैटरियों से मिलती है, यह महज़ 5 सेकंड में 0 – 60 मील की रफ़्तार पकड़ लेता है और यह 2 व्हील ड्राइव है। यह कांसेप्ट ट्रक पहली बार लॉस वेगास में नवंबर 2019 में SEMA में प्रदर्शित किया गया था।

कार निर्माण उद्योग में यह कार एक नये अध्याय की शुरुवात है। लाइटईयर वन अपने आप में विशेष है, यह सौर ऊर्जा से चलती है और तो और यह अपने आप चार्ज हो सकती है। शायद आप यकीन ना परन्तु यह एक बार पूर्णतः चार्ज होने पर 725 किमी की दूरी तय कर सकती है। इटली में डिज़ाइन की गयी इस कार की 1 लाख से ज़्यादा बुकिंग हो गयी है और कंपनी सन 2021 में व्यवसायिक रूप से इस कार का उत्पादन प्रारम्भ कर देगी। इस कार का मूल्य लगभग 98 लाख रुपये के आसपास रहेगा।

बेंटले द्वारा ग्राहकों को विशेष यात्रा अनुभव देने के लिए इस कार को डिज़ाइन किया गया है। इस कार की कुल लम्बाई 5.8 मीटर है और इसके ऊपर की ओर खुलने वाले दरवाज़ों की लम्बाई 2 मीटर दी गयी है। इस कार में एक विशेष प्रकार का हवा को साफ़ करने वाला यन्त्र लगाया है, जो आपके कार चलाने के अनुभव को सुकून प्रदान करता है। इस कार में बायोमेट्रिक अडाप्टेबल (Bio metric Adaptable) बैठक व्यवस्था है, जो सफर करने वाले के अनुसार स्वचालित रूप से एडजस्ट हो जाती है। यह अपने आप भी चल सकती है और कंपनी 2035 में इस कार को ग्राहकों को उपलब्ध करने की तैयारी में है।

भारत में कम ही लोग यह जानते है कि, हुंडई भी शुन्य कार्बन उत्सर्जन वाली कार के लिए सतत प्रयासरत है। EV 45 कंपनी द्वारा 1974 में लांच किये गए पोनी कूप को श्रद्धांजलि है। 45 डिग्री के तीखे कोण इस कार को बेहद आकर्षक बना देते है। वाहन चालक को अतिरिक्त सुरक्षा देने के उद्देश्य से इस कार में खम्बे नहीं (Pillar less ) है, साथ ही अत्याधुनिक हेडलैंप ऐसा प्रतीत होता मानों यह 70 के दशक का एनालॉग लाइट हो। आपके यात्रा अनुभव को और बेहतर बनाने के लिए इस कार की आगे वाली यात्री सीट पीछे की ओर घूम जाती है और इसका लकड़ी, फैब्रिक और चमड़े से बना केबिन बहुत ही आकर्षक है।

टेस्ला साइबर ट्रक अपने आप में अनोखा है, इस पर आपकी निगाहें ठहर सी जाती है। 16 इंच के ग्राउंड क्लीयरेंस वाला यह ट्रक यात्रियों को अधिकतम सुरक्षा प्रदान करने के लिए डिज़ाइन किया गया है। यह भी सौर ऊर्जा से चार्ज हो सकता है और अंदर बैठे यात्रियों को 9 MM की गोलियों से भी बचा सकता है। इस स्पोर्ट्स कार में सामान रखने के लिए 100 वर्ग फ़ीट की जगह है और यह अपने साथ 14000 पौंड से अधिक का वजन आसानी से ढो सकता है। यह ट्रक मात्र 2.5 सेकण्ड में 0 – 60 मील प्रति घंटा की रफ़्तार पकड़ लेता है। इस गज़ब की कार की प्रारंभिक कीमत 29 लाख के आसपास है और यह मॉडल X, मॉडल 3, मॉडल S और मॉडल Y में उपलब्ध है।

यह कार देखने में किसी फ़िल्मी सितारे से काम नहीं है। गज़ब का डिज़ाइन कार की सुंदरता में चार चाँद लगा देता है। इस कॉम्पैक्ट स्पोर्ट्स यूटिलिटी व्हीकल (SUV) की हेडलाइट्स अपने आप में विलक्षण है और इसका इंटीरियर आपका मन मोह लेगा। यह कार पहली बार जिनेवा ऑटो शो 2019 में पहली बार देखी गयी थी। आप इस कंपनी वेबसाइट पर जा कर इस कार को अपने मन के मुताबिक भी बनवा सकते है, शायद यह सुविधा अभी इस मॉडल पर उपलब्ध नहीं है।

ऑडी ऑफ़ रोड़ बग्गी (Audi Off Road Buggy ) चार लोगों की क्षमता वाली बेहद शक्तिशाली गाड़ी है। यह इलेक्ट्रिक कार अपने आप में विशेष है और इस गाड़ी में 5 रॉटरलेस (Rotor-less) ड्रोन (Drone) दिए गए है, जो चालक को दूर तक रास्ता देखने में मदद करते है। इस कार मै हेलीकॉप्टर (Helicopter) की तरह की सीटें है जो चालक को बेहतर दृष्टि प्रदान करती है। यह वाहन लेवल – 4 तक की कठिनाइयों को आसानी से पार कर सकता है और इसका इंजन 450 हार्सपावर की ऊर्जा उत्पन्न करता है। पूर्णतः चार्ज हो जाने पर यह लगभग 500 किमी का सफर तय कर सकती है, यह वाहन सेल्फ प्रोपेल्ड व्हील से लैस है जिसका अर्थ है इसके टायर अलग – अलग गति कर सकते जो कठिन रास्तों में वाहन सञ्चालन को आसान बनता है।

मर्सडीज़ बेंज़ EQS दिखने में भविष्य की कार लगती है। इसका डिज़ाइन बेहद खूबसूरत है। इस वाहन में 24 इंच के स्पोक (Spoke) व्हील्स और 940 एलईडी इसे बेहद आकर्षक बना देते है। यह LED अलग अलग रूप से संचालित हो सकते है। इस कार बड़ी विशेषता यह है कि, यह रिचार्ज होने पर 700 किमी का फसा तय कर सकती है और इसकी 80 प्रतिशत बैटरी मात्र 20 मिनट में चार्ज हो जाती है। कार्बन उत्सर्जन को न्यूनतम करने के उद्देश्य से कंपनी नवकरणीय (Renewable) संसाधनों से इस कार में उपयोग की जा रही बैटरी का निर्माण कर रही है। इस कार का इंजन लगभग 469 हॉर्सपॉवर की ऊर्जा उत्पन्न करता है और यह कार 0 – 100 किमी पार्टी घंटा की रफ़्तार मात्र 4.5 सेकंड में पकड़ लेती है।

इस मन मोह लेने वाली स्पोर्ट्स कार की जितनी तारीफ की जाये उतनी कम है या देखने में बेहद आकर्षक है। इस कार का डिज़ाइन क्लासिक और i 8 मॉडल्स का मिश्रण है। इस कार के ऊपर की और खुलने वाले दरवाज़े बहुत ही सुन्दर लगते है। BMW के मुताबिक इस कार के बुनियादी विचार को विकसित करने में कंपनी को लगभग 18 महीने का समय लग गया।

डीइस एक्स ई – टेंस (DS X E-TENSE )

पारम्परिक कार से बिलकुल अलग डीएस एक्स ई – टेंस भविष्य से आयी हुई कोई कार लगती है। इसका विषम (asymmetric) डिज़ाइन आपको कार के बारें में चर्चा करने पर मजबूर कर देगा, शायद यह बैट मोबाइल (Bat-mobile) से प्रेरित है। 2035 में लांच के लक्ष्य को सामने रख इस कार के प्रतिमान (Prototype) काम अभी चल रहा है। इस कार का डिज़ाइन बेहद अलग होने के साथ साथ इस चार लोगो की क्षमता वाली कार के दरवाज़े खुलने पर किसी तेज़ रफ़्तार पक्षी के परों के सामान लगते है। इसका केबिन भी बेहद अलग है और ऐसा लगता है जैसे की कोई अंतरिक्ष विमान हो। यह देखना होगा इस डीएस ऑटोमोबाइल आखिर ग्राहकों के लिए कैसा अनुभव तैयार करने जा रहा है वैसे यह उत्सुकता जल्द समाप्त नहीं होने वाली।

WHAT IS AGS TECHNOLOGY?

Back in 2014, Maruti Suzuki launched its first model with Auto Gear Shift (AGS), the Celerio. Since its launch, this automatic transmission technology has enhanced the driving convenience of car owners across the country. At present, AGS is available in Alto K10, S-Presso, WagonR, Celerio, Ignis, Swift, Dzire, and Vitara Brezza.

Understanding AGS

Pioneered by Maruti Suzuki, the AGS (Auto Gear Shift) technology is an automatic transmission that uses a shift control actuator operated by the transmission ECU for automatic clutch operation and gear shifts. This, in turn, helps deliver a seamless driving experience which is marked by comfort and convenience.

Key Benefits of AGS

AGS brings together the benefits of both automatic and manual transmissions in one. Here’s why it finds high relevance with Indian car buyers: –

1.Dual-Driving Mode – With AGS, the driver has the flexibility to switch between automatic and manual modes as per his driving preferences. While the Automatic mode ensures convenience while driving, the Manual mode lets you take control of the gear shifts in situations like driving uphill.

2.Creep Function – With the presence of Creep mode, driving in bumper-to-bumper traffic becomes a lot easier. All you have to do is release the brake and the car starts moving at low speeds.

3.Kick-down Function – When you need to accelerate, the Kick Down function in AGS comes into play. It lowers the gear based on the driver’s input to provide better acceleration.

4.Fuel-efficiency – The AGS technology helps deliver optimum fuel-efficiency since the gear ratio change is achieved at optimal shift point i.e. automatic gear shifts are precise.

5. Performance – AGS can intelligently assess dynamic driving conditions to deliver instantaneous power and torque for enhanced driving performance. Moreover, since the engine always remains in the power band, that further enhances the car’s performance.

As an automatic transmission technology, AGS delivers fuel efficiency that is at par with manual versions and offers the convenience of automatic at an accessible price.

(Source: www.marutisuzuki.com)