एंटी बैक्टीरियल ट्रीटमेंट : कार को बनाये सुरक्षित

बैक्टीरिया और वायरस से करें स्वयं और परिवार की रक्षा

Source : FDA

वर्तमान परिदृश्य

कोरोना महामारी ने भारत की जनता को बैक्टीरिया और वाइरस जनित रोगों के भयावह रूप से परिचय कराया है और साथ ही साथ यह सोचने पर भी मजबूर किया है कि,क्या हमारी जीवनशैली वास्तव में स्वस्थ है या उसमें परिवर्तन की आवश्यकता है ? शायद यह बात कम ही लोग जानते होंगे या फिर कम ही लोग इस बारे में सोचते है की हमारे चारों ओर सैंकड़ों की संख्या में वायरस और बैक्टीरिया होते है। हमारा शरीर याने हमारे शरीर की रोगप्रतिरोधक क्षमता लगातार इन जीवाणुओं से लड़ती रहती है। जब हमारा शरीर इन आक्रमणकर्ताओं का प्रतिकार नहीं कर पाता तो हम बीमार पड़ जाते है। इस जीवाणुओं से लड़ने के लिए हम कुछ सामान्य उपाये रोज़ करते है, जैसे की सब्ज़ियों को काटने से पहले धोना, खाना खाने से पहले हाथ धोना, फलों को खाने से पहले धोना, जूते घर के बाहर उतरना, नाखून काटना, नहाना इत्यादि।

हमारी जीवनशैली और कार आरोग्यशास्त्र (Hygiene)  ?

आज की भाग-दौड़ भरी ज़िन्दगी में हम में से बहुत से लोग ऑफिस जाते समय कार में ही नाश्ता कर लेते है, कॉफी भी कार में पी लेते है , अगर हम परिवार के साथ बाहर जा रहे हो बच्चों द्वारा कार में खाने की किसी वस्तु को कार में गिरा देना बहुत आम बात है,  शाम को ऑफिस से घर जाने से पहले किसी सहकर्मी के साथ या अकेले कार में विस्की के दो-चार पेग लगा लेना बहुत से लोगों के जीवन का हिस्सा है या दोस्तों के साथ किसी लम्बे सफर में शराब ना पी जाये ऐसा कम ही देखने में आता है। ऐसे में शराब के साथ मुँह का स्वाद बदलने के लिए खाया जाने वाला नाश्ता (प्रचलित भाषा में ‘चखना’) कभी सीट पर, तो कभी फर्श पर या डैशबोर्ड पर तो गिर ही जाता है। यह बात अलग है कि, शराब पी कर गाडी चलाना दण्डनीय अपराध है और नैतिकता की दृष्टि से भी गलत है, पर यह कटु सत्य है कि यह हमारी जीवनशैली का हिस्सा बन चुका है। हम कार की सफाई के लिए उसे बाहर से धुलवा लेते है और अंदर वैक्यूम से ड्राई सक्शन करवा लेते है, पर क्या यह काफी है ?

कार कैसे है बहुत अधिक संक्रामक ?

क्या आपने कभी विचार किया की, जो भी खाद्य पदार्थ कार में गिर जाते है वह स्वास्थ्य के लिए हानिकारक हो सकते है? यहाँ हम जूतों से फैलने वाली गन्दगी की तो बात ही नहीं कर रहे है, वह भी कार को दूषित करने का प्रमुख कारक है।  जितनी भी जैव निम्नीकरणीय (Bio Degradable) वस्तुयें है, वह सब आपके वाहन को दूषित कर सकती है, जो आपको बीमार बनाने के लिए काफी है।  संक्युत राज्य अमेरिका (USA) के राष्ट्रीय स्वास्थ्य संस्थान (National Institute of Health) के मुताबिक कार में रोगाणु (Pathogens) दुगनी गति से गुणित (Multiply) होते है।  शोध (Research) के अनुसार सिर्फ चालाक चक्र (Steering Wheel) के 6.5 वर्ग सेंटीमीटर में रोगाणुओं की 100 कॉलोनी हो सकती है जो आपको बहुत बीमार करने के लिए काफी है। इसके अलावा कार का वातानुकूलन तंत्र ( Air conditioning System) में  400 से अधिक रोगाणु पाए जाते है जिनमे बहुत  संक्रामक रोगाणु एसिनेटोबक्टेर (Acinetobacter), बेसिलस (Bacillus), सूडोमोनास (Pseudomonas), स्टेनोट्रोफोमोनस (Stenotrphomonas)  आदि शामिल है, जो आपके स्वसन तंत्र पर सीधा प्रहार कर सकते है। इस वातानुकूलन तंत्र में 18 प्रकार की संक्रामक फफूंद (Fungi) भी पायी जाती है। देखते है कार के किस हिस्से पर कितने रोगाणु पाए जाते है।

source : rte.com

संक्रामकता के अनुसार क्रम

1. मध्य ढांचा (Central  Console) :-  47 .12 प्रतिशत

2. चालक चक्र :-  23.8 प्रतिशत

3. गियर शिफ्टर  (Gear Shifter)   : 10.97 प्रतिशत

4. दरवाज़े का कुंदा  (Door Handle) : 7.6 प्रतिशत

5. दरवाज़े का ताला (Door Lock) : 3.75 प्रतिशत

6. दरवाज़े का ताला नियंत्रक (Door Lock Control) : 2.77 प्रतिशत

7. रेडियो ध्वनि नियंत्रक (Radio Volume Control) : 2.77 प्रतिशत

8. दरवाज़े की कुंडी (Door latch ) : 1.66 प्रतिशत

9. खिड़की नियंत्रक (Window Control) : 0.83 प्रतिशत

डैशबोर्ड (Dashboard),सीट (Seat) और infotainment सम्बन्धी जानकारी हमें प्रामाणिक रूप से प्राप्त नहीं हुई इसलिए हमने परिकल्पना के आधार पर कोई आंकड़ा नहीं दिया। पाठक स्वयं के विवेक से स्टीयरिंग व्हील और सेंट्रल कंसोल से तुलना कर सकते है।

कैसे करें रोगाणुओं की रोकथाम 

बाज़ार में बहुत से विकल्प मौजूद है जिससे आप स्वयं अपने वाहन के आंतरिक भाग (Interior) को रोगाणुओं से मुक्त कर सकते है।  शोध बताती है कि, कोई भी चाँदी आधारित फोम प्रक्षालक (Sanitizer) यह कार्य बखूबी कर सकता है। वर्तमान में भारत में ही रेसिल केमिकल्स द्वारा निर्मित पूर्णतः स्वदेशी  एंटी-बैक बेहतरीन प्रक्षालक है। आप घर पर स्वयं भी इस उत्पाद को इस्तेमाल कर सकते है। बस आपको इतना करना है कि, इस्तेमाल से पूर्व कैनिस्टर को अच्छे से हिला लें, फिर 10 – 12 इंच की दूरी से उसे सतह पर स्प्रे करें और कुछ देर ऐसे ही छोड़ देने के बाद नायलॉन ब्रश से हलके हाथों से घीसे। इसके बाद सतह को की नर्म कपडे से पोछ ले।

आर्डर करने के लिए इस लिंक पर क्लिक करें :
https://www.caradda.us/product/vista-anti-bac-treatment/

Anti Bac पर प्रयोगशाला में की गयी शोध यह सत्यापित करती है कि, यह उत्पाद 99 प्रतिशत जीवाणुओं का खात्मा कर सकता है। यह उत्पाद क्लोरो – फ्लोरो कार्बन (CFC) से मुक्त है , अतः यह ओज़ोन (Ozone) परत को नुकसान नहीं पहुंचता।

Car अड्डा द्वारा अपनायी गई पद्धति 

  1. सबसे पहले कार की वैक्यूम से सफाई की जाती है। 
  2. 3M क्लीनर को दरवाज़ों, डैशबोर्ड, सीट बेल्ट, सीट, फर्श और छत पर लगाया जाता है।
  3. गर्म भाप से ट्रीट किया जाता है।
  4. विशेष मशीन से सफाई की जाती है।
  5. Anti Bac को इंटीरियर में सब जगह लगाया जाता है और फिर से सफाई की जाती है।    
  6. AC में प्रक्षालक डाला जाता है। 
  7. इंटीरियर को पॉलिश किया जाता है।  

इस प्रकार इंटीरियर की पूरी तरह सफाई कर प्रक्षारण की प्रक्रिया पूर्ण की जाती है।  अगर आप कुक्षी और खरगोन में इस सेवा का लाभ लेना चाहते है तो +91 9977151011, +91 8448454427 पर संपर्क कर सकते है या इस फॉर्म को जमा कर सकते है  https://www.caradda.us/book-now/

One Reply to “एंटी बैक्टीरियल ट्रीटमेंट : कार को बनाये सुरक्षित”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *